समर्थक

रविवार, 28 फ़रवरी 2010

ज़िल्लतें कितनी सहीं.....

ज़िल्लतें कितनी सहीं तब जाके नाकारा हुआ.
तुम न समझोगे कि मैं किस तर्ह आवारा हुआ.


शाम के बुझते हुए माहौल के पेशे-नज़र
मैं भी अब वापस चला घर को थका हारा हुआ.


इन दिनों हर चीज़ की तासीर उल्टी हो गयी
बर्फ के पहलू में मैं बैठा तो अंगारा हुआ.


मुद्दतों ठंढी हवाओं में बसेरा था मगर
गर्म लम्हों की इनायत से मैं बंजारा हुआ.


घूम फिर के आ गया हूं फिर तुम्हारे शहर में
और मैं जाता कहां तकदीर का मारा हुआ.


दुश्मनों के दरमियां  वो कौन है गौतम कि जो
आशना तक भी नहीं और जान से प्यारा हुआ.


---देवेंद्र गौतम 

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें