समर्थक

शनिवार, 22 जनवरी 2011

झील के पानी में आया है.....

झील के पानी में आया है उबाल.
जाने कैसा होगा दरियाओं का हाल.


एक सिक्के के कई पहलू निकाल.
बाल की यूं भी निकल आती है खाल.


इस सदी में चैन से कोई नहीं
मेरा, तेरा, इसका, उसका एक हाल.


बाढ़ तो ऐसी कभी देखी न थी
और न देखा था कभी ऐसा अकाल.


बेबसी का आइना थी खामुशी
खुश्क आखों में थे कुछ भीगे सवाल.


आप प्यादा हैं, चलें एक-एक घर
हम चलेंगे ढाई घर की एक चाल.


तुमसे मिलने की ख़ुशी जाती रही
रह गया तुमसे बिछड़ने का मलाल.


----देवेंद्र गौतम 

1 टिप्पणियाँ:

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

बहुत उम्दा ग़ज़ल !हालांकि चुनना मुश्किल है फिर भी मुंदर्जाज़ैल अश’आर बेहद पसंद आए

इस सदी में चैन से कोई नहीं
मेरा, तेरा, इसका, उसका एक हाल.

बेबसी का आइना थी खामुशी
खुश्क आखों में थे कुछ भीगे सवाल.

आप प्यादा हैं, चलें एक-एक घर
हम चलेंगे ढाई घर की एक चाल.

बहुत ख़ूब !
बेबसी का ..............
बेहतरीन अक्कासी !

एक टिप्पणी भेजें

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें