समर्थक

बुधवार, 25 अप्रैल 2012

ऐसी सूरत चांदनी की

ऐसी सूरत चांदनी की.
नींद उड़ जाये सभी की.

एक लम्हा जानते हैं
बात करते हैं सदी की.

हम किनारे जा लगेंगे
धार बदलेगी नदी की.

मंजिलों ने आंख फेरी
रास्तों ने बेरुखी की.

जंग जारी है मुसलसल
आजतक नेकी बदी की.

जाने ले जाये कहां तक 
अब ज़रुरत आदमी की.

अब ज़रूरत ही नहीं है 
आदमी को आदमी की.

एक जुगनू भी बहुत है
क्या ज़रूरत रौशनी की.

---देवेंद्र गौतम 







5 टिप्‍पणियां:

  1. सर! आपके शेर तो...देखन को छोटे लगे घाव करे गंभीर

    उत्तर देंहटाएं
  2. जाने ले जाये कहां तक
    अब ज़रुरत आदमी की.

    अब ज़रूरत ही नहीं है
    आदमी को आदमी की.

    एक जुगनू भी बहुत है
    क्या ज़रूरत रौशनी की.

    क्या बात है भाई....बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें