समर्थक

बुधवार, 13 जनवरी 2016

सनस्टार टीवी से मेरे ग़ज़ल संग्रह आखरी मुकाम धुआं पर साक्षात्कार

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें