समर्थक

रविवार, 3 अप्रैल 2011

कुछ दुधमुही ग़ज़लें

 (आज किताबों की आलमारी में एक पुरानी डायरी मिली जिसमें मेरी शुरूआती दौर की ग़ज़लें हैं. 1975 -76 के ज़माने की. जब मैंने आरा की निशिस्तों में शिरक़त करनी शुरू की थी. कुछ रवायती मेज़ाज़ की कुछ ज़दीदियत की ओर रुख करती हुई.... दुधमुही सी....आपके साथ शेयर कर रहा हूं मुलाहिजा फरमाएं )

--देवेन्द्र गौतम 

(1)
जिगर कहना जिन्हें मुश्किल वो पत्थर याद आते हैं.
गुज़िश्ता दौर के मुझको सितमगर याद आते हैं.

निगाहें खुश्क होती हैं, जिगर रह-रह तड़पता है 
शबे-फुरक़त की घड़ियों में सितमगर याद आते हैं.

ये मदहोशी भी ए साक़ी! क़यामत बन के छाई है 
भुलाया होश में जिनको वो पीकर याद आते हैं.

(2)

(दायरे-अदबिया की जानिब से तरही मुशायरे में पढ़ी गयी ग़ज़ल. तरह थी.."रहनुमा पर भी गुमाने-रहनुमा होता नहीं").

दिल हमारा अब कभी महवे-गिला होता नहीं.
दर्द जब हद से बढे उसका पता होता नहीं.

पोख्तातर वो दिल नहीं जो गम के शोलों से बचे
तप न जाये जब तलक सोना खरा होता नहीं.


धडकनों का ज़लज़ला है, हर नफ़स तूफ़ान है
इस जुदाई की घडी में क्या से क्या होता नहीं.

जल रहा था जिस्म लेकिन दिल तड़पता ही रहा
मौत पर भी साजे-हस्ती बेसदा होता नहीं.

मस्त आंखों से कोई सहबा पिला देता जरा
मुद्दतों फिर आतिशे-गम का पता होता नहीं.

रह्ज़नों के काफिले इतने मिले हैं राह में
"रहनुमा पर भी गुमाने-रहनुमा होता नहीं."

(3 )

लज्ज़तों की धूप फैले वो फुगां पैदा करो.
इस जहां से खूबसूरत इक जहां पैदा करो.

आस्मां के ज़न्नतो-दोजख से क्या मतलब तुम्हे
अपनी काली धरती पर ही कहकशां पैदा करो.

एक बुलबुल की सदायें महवे-गुल थीं दर्द में
अब खिजां से दूर कोई गुलसितां पैदा करो.

अब नकुशे-कारवां की जुस्तजू है रायगां 
कारवां जिसपर चले तुम वो निशां पैदा करो.  

(4 )

ख़ुशी की सुब्ह भी मायूसियों की शाम हो जाये.
कहीं ये दिल न वक्फे-गर्दिशे-अय्याम हो जाये.

हयाते-मुख़्तसर के नाम पर वादा न कर हमदम 
न जाने कब हमारी जिंदगी की शाम हो जाये.

अगर इंसान में इंसानियत की बू नहीं आती
तो हर तारे-नफ़स दौरे-हवस का दाम हो जाये.

तेरी उल्फत का किस्सा मैं सितारों को सुनाऊंगा
ज़मीं की बात का चर्चा फलक पर आम हो जाये.

चले आते हैं हज़रत शेख कर दो बंद दरवाज़ा
कहीं ऐसा न हो ये मैक़दा बदनाम हो जाये.

(5 ) 

ये सुब्हो-शाम के जो ज़र्द साये जाते हैं.
हमारी उम्र की दौलत चुराये जाते हैं.

किस की शक्ल को पहचानता नहीं कोई
तमाम लोग नकाबों में पाये जाते हैं.

सुना भी जाओ तबाही की दास्तां अपनी 
के दोस्तों से कहीं गम छुपाये जाते हैं.

तुम्हारी और नज़र आइनों की फिरती है
हजारों अक्स जहां जगमगाए जाते हैं.

वो जिनके प्यार में ख्वाबों के बन गए थे महल
उचटती नींद के आंगन में पाये जाते हैं.

ये कागजी हैं भला किसके काम आयेंगे
जो फूल अहले-सियासत खिलाये जाते हैं.

मसर्रतों की कहीं धूप अब नहीं मिलती
ग़मों के साये मेरे सर पे छाये जाते हैं.

(6 )

तस्वीरे-वफ़ा हल्की ही सही आंखों में कोई झलका जाये.
फिर दिल की सूनी वादी में जज्बों का कुहासा छा जाये.

मैं उसको याद भी आऊं तो दुल्हन की तरह शरमा जाये.
तन्हाई के सूने कमरे में वो पर्दानशीं बल खा जाये.

बरसात की भीगी रात में जब यादों की खुशबू छा जाये.
ख्वाबों के सुनहरे बिस्तर पर मखमल सा बदन लहरा जाये.

माना कि गुनाहों के नभ पर हम तुम दो प्यासे बादल हैं
मिलकर गरजें, बरसें चमकें, मुमकिन है कि सावन आ जाये.

मैं यूं तो ग़मों  की चादर में मुद्दत से लेटा हूं लेकिन 
खुशियों की परी आये तो कभी और मेरी नींद उड़ा जाये. 

किस हुस्न में इतनी ताक़त है के मुझको मुझसे अलग कर दे
मुमकिन है के ऐसे किस्सों पे हंसने का ज़माना आ जाये.

(7)

भटक रहा है अभी रोजो-शब सुखन मेरा.
अभी से क्या कहूं किससे जुड़ा है फन मेरा.

मेरे जुनूं का खिलौना बना है मन मेरा.
अभी तलक है मेरे साथ बालपन मेरा .

हमेशा आतिशे-गम को पनाह देता है
मेरा रफीक है जलता हुआ बदन मेरा.

शिकस्ता शाखों से उभरेगा एक हरा मौसम
इसी उमीद पे उजड़ा रहा चमन मेरा.

किसी पहाड़ की मानिंद महवे-ख्वाब हूं मैं
के सर्द जज्बों का कुहरा है इल्मो-फन मेरा.

ज़मीं पे आदमो-हव्वा की कौम रहती है
मुझे पुकार रहा है अभी वतन मेरा.

मुझे खबर नहीं गौतम के इस ज़माने में
कहां छुपा है सितारों भरा गगन मेरा.

4 टिप्पणियाँ:

Udan Tashtari ने कहा…

आप तो शुरु से गज़ब रचते आ रहे हैं..वाह!! बधाई.

शारदा अरोरा ने कहा…

वाह , उर्दू के बहुत सारे शब्द मुझे अंदाजा लगा कर समझने पड़ते हैं , और इतनी सारी ग़ज़लें एक साथ हजम करनी मुश्किल होती हैं ...लुत्फ़ तो घूँट घूँट पिया जाए तो मजा देता है ....

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

वाह वाह वाह वाह वाह
और क्या कहा जाए देवेन्द्र जी
दिल खुश हो गया सर जी
बस ऐसे मौके और भी मिलते रहें यही रिक्वेस्ट है

बेनामी ने कहा…

bahut khub

एक टिप्पणी भेजें

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें