समर्थक

गुरुवार, 9 जून 2011

क्या ढोते बेकार के रिश्ते.

("OBO लाइव महा उत्सव" अंक ८...में प्रस्तुत)

तोड़ दिए संसार के रिश्ते. 
क्या ढोते बेकार के रिश्ते.

स्वर्ग-नर्क के बीच मिलेंगे 
इस पापी संसार के रिश्ते.

रोज तराजू में तुलते हैं
बस्ती और बाज़ार के रिश्ते.




खून के रिश्तों से भी ज्यादा
गहरे हैं व्यवहार के रिश्ते.

धीरे-धीरे टूट रहे हैं
आंगन से दीवार के रिश्ते.

टूट गए अबके आंधी में 
कश्ती और पतवार के रिश्ते.

सबकी आंखों में खटकेंगे 
हम दोनों के प्यार के रिश्ते.

किस खूबी से निभा रहे हैं
हम तलवार की धार के रिश्ते.

दो मुल्कों में ठनी  है लेकिन
कायम हैं व्यापार  के रिश्ते. 

---देवेंद्र गौतम

16 टिप्‍पणियां:

  1. 'कायम हैं व्यापार के रिश्ते"

    ...............ये कही मार्के वाली बात|

    उत्तर देंहटाएं
  2. गौतम जी ... सलाम है आपकी लेखनी को ... किसी एक शेर को आज कोट नही करूँगा ....
    सभी एक दूसरे को पीछे छोड़ रहे हैं .... छा गये आज तो ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मौला तू कायम रहने दे
    मेरे-बरखुरदार के रिश्ते.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बेहतरीन गज़ल...पूरी की पूरी!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये अपने विचारों का द्वन्द है ,
    जीने दो उसको जो स्वछन्द है |
    निराधार है सारी बातें ,
    जिसमें कोई सार नहीं |
    नाम के हैं सारे रिश्ते ,
    जिसमें प्यार नहीं , सत्कार नहीं |
    aapki rachna hame bahut hi khubsurat lagi dost :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. पढने को सौगात मिली है
    आज मुझे ईमेल के रश्ते

    नायाब शेरों से सजी लाजवाब ग़ज़ल - बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहूत अच्छा लिखा है आज के दौर में रिशतों की यही परिभाषा है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. खून के रिश्तों से भी ज्यादा
    गहरे हैं व्यवहार के रिश्ते.

    धीरे-धीरे टूट रहे हैं
    आंगन से दीवार के रिश्ते.

    पूरी ग़ज़ल ही बेहद ख़ूबसूरत है लेकिन इन अश’आर की तारीफ़ के लिये अल्फ़ाज़ ढूंढ रही हूं
    बहुत उम्दा !!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढ़िया..पूरी ग़ज़ल...हर शेर लाजवाब...

    उत्तर देंहटाएं
  10. Rishton ki gahri paribhasha ki vyakhya shabdon se gahra rishta banati gajal...lajabav...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सबकी आंखों में खटकेंगे
    हम दोनों के प्यार के रिश्ते.

    बधाई ....
    ये pyaar bnaa rahe ......
    :))

    उत्तर देंहटाएं
  12. :))

    सबकी आंखों में खटकेंगे
    हम दोनों के प्यार के रिश्ते.


    बधाई हमारी ओर से भी ....
    ये pyaar bnaa rahe ......
    :))


    उत्तर देंहटाएं
  13. रोज़ तराजू मी----
    और धीरे धीरे टूट रहे हैं----
    नहुत खूबसूरत शेर हैं सुन्दर गज़ल के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  14. खून के रिश्तों से भी ज्यादा
    गहरे हैं व्यवहार के रिश्ते.

    वाह...वाह...वाह... क्या बात कही...
    सभी के सभी शेर मन मोहने वाले...
    बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें