समर्थक

मंगलवार, 14 जून 2011

रेज़ा-रेज़ा बिखर रहे हैं हम.

रेज़ा-रेज़ा बिखर रहे हैं हम.
अब तो हद से गुज़र रहे हैं हम.

एक छोटे से घर की हसरत में
मुद्दतों दर-ब-दर रहे हैं हम.




कैसा आसेब है तआकुब में
अपने साये से डर रहे हैं हम.

कौन उस रहगुज़र से गुजरेगा
जिसपे गर्म-ए-सफ़र रहे हैं हम.

मुद्दतों से हवा में रहते थे
अब जमीं पे उतर रहे हैं हम.

---देवेंद्र गौतम  

3 टिप्‍पणियां:

  1. एक छोटे से घर की हसरत में
    मुद्दतों दर-ब-दर रहे हैं हम.

    सुभान अल्लाह...कितना मासूम और खूबसूरत शेर है...पूरी गज़ल ही कमाल की है...मेरी दिली दाद कबूल फरमाएं...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें