समर्थक

गुरुवार, 15 मार्च 2012

एक कत्ता


(एक ऐसे बच्चे के नाम जिसे छः माह पहले उसकी मां एक नर्सिंग होम में जन्म देकर फरार हो गयी थी और जो बहुरूपिया ब्लॉग के संचालक पवन श्रीवास्तव के घर पर पल रहा है. पवन जी के भाई अशोक मानव ने उसे गोद लिया है.)


अपने पाओं पे खड़ा होने दो.
घर का बच्चा है, बड़ा होने दो.
प्यास दुनिया की ये बुझाएगा
कच्ची मिटटी है घड़ा होने दो.

------देवेंद्र गौतम

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सार्थक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ और बेहतरीन काम जिन्होंने इस बच्चे को गोद लिया है

    उत्तर देंहटाएं
  3. सराहनीय व सार्थक प्रयास ...आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. देवेंद्र जी
    अपने पाओं पे खड़ा होने दो.
    घर का बच्चा है, बड़ा होने दो.
    प्यास दुनिया की ये बुझाएगा
    कच्ची मिटटी है घड़ा होने दो.
    चार लाईनों में ही क्या कह दिया आपने वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
  5. पवन बाबा को मैं जब से जानता हूँ वो हर बार कुछ न कुछ चमत्कार करते रहते हैं ....
    www.kavisammelanhasya.com

    www.kavisammelanhasya.com

    उत्तर देंहटाएं

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें