समर्थक

मंगलवार, 12 फ़रवरी 2013

वरक़ जिंदगी का पलटकर रहेंगे

(गज़लगंगा की 150  वीं पोस्ट)

जुनूं की बिसातें उलटकर रहेंगे.
हम अहले-खिरद से निपटकर रहेंगे.

पता है कि खुद में सिमटकर रहेंगे.
हम अपनी जड़ों से भी कटकर रहेंगे.

ये पंजे बड़े तेज़ हैं इनसे बचना
ये दुनिया की हर शै झपटकर रहेंगे.

भले आग लग जाये सारे नगर में
हम अपने घरों में सिमटकर रहेंगे.

लिखेंगे कहानी नयी मंजिलों की
वरक़ जिंदगी का पलटकर रहेंगे.

कभी तो हमारी ज़रूरत पड़ेगी
वो कितने दिनों हमसे कटकर रहेंगे.

भुला देंगे यादें गये मौसमों की
हवाओं से कितना लिपटकर रहेंगे.

वतन पर बढ़ेंगे अभी और खतरे
अगर हम कबीलों में बंटकर रहेंगे.

ख़ुशी के बहाने तलाशेंगे गौतम
गमे -जिंदगी से सलटकर रहेंगे.

---देवेंद्र गौतम



3 टिप्पणियाँ:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

ये पंजे बड़े तेज़ हैं इनसे बचना
ये दुनिया की हर शै झपटकर रहेंगे

सबसे पहले तो १५० पोस्ट की बधाई ...
फिर इस लाजवाब गज़ल की ... हर शेर हमेशा की तरह लाजवाब बस लाजवाब ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 14-02 -2013 को यहाँ भी है

....
आज की नयी पुरानी हलचल में ..... मर जाना , पर इश्क़ ज़रूर करना ...
संगीता स्वरूप

.

प्रवाह ने कहा…

खुबसूरत अंदाजे बयाँ,मन वाह -वाह कहने को मजबूर हो जाए ,शुभकामनाये

एक टिप्पणी भेजें

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें