समर्थक

बुधवार, 1 जुलाई 2015

न काफिलों की चाहतें न गर्द की, गुबार की

न नौसबा की बात है, न ये किसी बयार की
ये दास्तान है नजर पे रौशनी के वार की
किसी को चैन ही नहीं ये क्या अजीब दौर है
तमाम लोग लड़ रहे हैं जंग जीत-हार की
न मंजिलों की जुस्तजू, न हमसफर की आरजू
न काफिलों की चाहतें न गर्द की, गुबार की
जहां तलक है दस्तरस वहीं तलक हैं हासिलें
न कोशिशों की बात है न बात अख्तियार की
हमारे पास तीरगी को चीर के चली किरन
तुम्हारे पास रौशनी तो है मगर उधार की
मुसाफिरों के हौसले पे बर्फ फेरता रहा
कहानियां सुना-सुना के वो नदी की धार की
देवेंद्र गौतम 08527149133 

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 2 - 06 - 2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2024 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. अलिफ़ बे के वज़ू सिफ़र की गुफ़्तगू किए..,
    लगी हुई थी बोलिया ख़सरों पे ख़रीदार की..,

    खिलअते- तन में सबकी नियतें खराब थीं..,
    ख़ाक उडी शक़्लें थीं ख़िरमने-बाज़ार की..,

    रो रहा था जाफ़राँ सिसक रही थी वादियाँ..,
    रेज़ा खूँ चप-ओ - राह रूह मिली चनार की.....

    राजू : -- ख़िर माने ?

    ख़िरमने- बाज़ार = फसलों का बाज़ार
    चप-ओ - राह = दाहिने- बाएं

    उत्तर देंहटाएं

  3. जाँ-निसा को जाँ नहीं किसी को आबोदाँ नहीं..,
    उन्हें आरजू थी किसी नफे के कारोबार की..,

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही कमाल के ... हकीकत बयान करते हैं शेर आपके ...

    उत्तर देंहटाएं

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें