समर्थक

शनिवार, 14 जनवरी 2012

खून में डूबे हुए थे रास्ते सब इस नगर के

खून में डूबे हुए थे रास्ते सब इस नगर के.
हम जो गलियों में छुपे थे, घाट के थे और न घर के.

ठीक था सबकुछ यहां तो लोग अपनी हांकते थे
खतरा मंडराने लगा तो चल दिए इक-एक कर के.

हादिसा जब कोई गुज़रा या लुटा जब चैन दिल का
मैनें समझा कोई रावण ले गया सीता को हर के.


अपने तलवे थामकर इक रोज वो कहने लगा 
चांदनी रातों में भी सब जायके हैं दोपहर के.

शुहरत, दौलत और ताक़त, जिंदगी भर की सियासत
गौर से देखा तो जाना सब छलावे हैं नज़र के.

----देवेंद्र गौतम

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ... सामयिक और सार्थक शेर हैं इस गज़ल के ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शोहरत, दौलत और ताक़त, जिंदगी भर की सियासत
    गौर से देखा तो जाना सब छलावे हैं नज़र के...waakai, bahut badhiyaa

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या बात है. बेहतरीन गज़ल.


    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. खून में डूबे हुए थे रास्ते सब इस नगर के.
    हम जो गलियों में छुपे थे, घाट के थे और न घर के.

    वाह !बहुत ख़ूब !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन में बसे अच्छे खयालात का
    बहुत अच्छा इज़हार !
    वाह !!

    उत्तर देंहटाएं

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें