समर्थक

शुक्रवार, 20 जुलाई 2012

रखते हैं लोग जिल्द में दिल की किताब को

कांटों से भरी शाख पर खिलते गुलाब को.
हमने क़ुबूल कर लिया कैसे अज़ाब को.

दिल की नदी में टूटते बनते हुबाब को.
देखा नहीं किसी ने मेरे इज़्तराब को.

चेहरों से झांकते नहीं जज़्बात आजकल
रखते हैं लोग जिल्द में दिल की किताब को.


लम्हों की मौज ले गयी माजी के सब वरक़
अब तुम  कहां से लाओगे यादों के बाब को.

बेचेहरगी ने थाम लिया होगा उनका हाथ
चेहरे से फिर हटा लिया होगा नकाब को.

ऐसे भी कुछ सवाल थे जो हल न हो सके
ताउम्र ढूढ़ते रहे जिनके जवाब को.

तहजीब के फलक पे सितारों के दर्मियां
आंखें तलाशती रहीं आवारा ख्वाब को.

सबकी नज़र में खार सा चुभने लगा था वो
देखा था जिस किसी ने मेरे इन्तखाब को.

वो जिनकी दस्तरस में है सिमटा हुआ निजाम
दावत भी वही दे रहे हैं इन्कलाब को.

हम यूं नवाजते हैं उन्हें अपने मुल्क में
 जैसे कोई शिकार नवाज़े उकाब को.


पहले हमें कबाब में दिखती थीं हड्डियां
अब हड्डियों में देखते हैं हम कबाब को.


गौतम हमारे बीच में दीवार क्यों रहे
अबके तुम अपने साथ न लाना हिजाब को.

----देवेंद्र गौतम






20 टिप्‍पणियां:

  1. तहजीब के फलक पे सितारों के दर्मियां
    आंखें तलाशती रहीं आवारा ख्वाब को.

    बहुत शानदार- बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऐसे भी कुछ सवाल थे जो हल न हो सके
    ताउम्र ढूढ़ते रहे जिनके जवाब को.

    sach baat kahi hai is sher men.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह.....
    बेहतरीन गज़ल...
    दाद कबूल करें
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ... बहुत खूब ... लाजवाब प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिल की नदी में टूटते बनते हुबाब को.
    देखा नहीं किसी ने मेरे इज़्तराब को.

    kya baat hai !bahut khoob !!


    ऐसे भी कुछ सवाल थे जो हल न हो सके
    ताउम्र ढूढ़ते रहे जिनके जवाब को.

    waah !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. चेहरों से झांकते नहीं जज़्बात आजकल
    रखते हैं लोग जिल्द में दिल की किताब को.

    ...मौजूदा दौर के इंसान की सही व्याख्या

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब|||
    बहुत बेहतरीन गजल...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. चेहरों से झांकते नहीं जज़्बात आजकल
    रखते हैं लोग जिल्द में दिल की किताब को.

    लम्हों की मौज ले गयी माजी के सब वरक़
    अब तुम कहां से लाओगे यादों के बाब को.

    बहुत खूब ... खूबसूरत गजल

    उत्तर देंहटाएं
  9. तहजीब के फलक पे सितारों के दर्मियां
    आंखें तलाशती रहीं आवारा ख्वाब को.

    bahut badhiya gazal

    उत्तर देंहटाएं
  10. खूबसूरत गजल लाजवाब प्रस्‍तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेचेहरगी ने थाम लिया होगा उनका हाथ
    चेहरे से फिर हटा लिया होगा नकाब को.

    वाह ... देवेन्द्र जी ... क्या कमाल की गज़ल है .. कितनी मासूमियत है इस शेर में ... बहुत ही उम्दा
    और आपकी सिगरेट वाली गज़ल ने तो सच में कमाल किया है ... आपका अंदाज़ हमेशा ही लाजवाब है ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. तहजीब के फलक पे सितारों के दर्मियां
    आंखें तलाशती रहीं आवारा ख्वाब को.

    सबकी नज़र में खार सा चुभने लगा था वो
    देखा था जिस किसी ने मेरे इन्तखाब को.

    ये पूरी गज़ल ही कमाल की है 3-4 बार पढी। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. गौतम जी नमस्कार...
    आपके ब्लॉग 'गजलगंगा' से कविता भास्कर भूमि में प्रकाशित किए जा रहे है। आज 26 जुलाई को 'रखते है लोग जिल्द में दिल की किताब को' शीर्षक के कविता को प्रकाशित किया गया है। इसे पढऩे के लिए bhaskarbhumi.com में जाकर ई पेपर में पेज नं. 8 ब्लॉगरी में देख सकते है।
    धन्यवाद
    फीचर प्रभारी
    नीति श्रीवास्तव

    उत्तर देंहटाएं
  14. तहजीब के फलक पे सितारों के दर्मियां
    आंखें तलाशती रहीं आवारा ख्वाब को
    वाह!क्या बात है!
    बहुत बढ़िया गज़ल कही है आप ने.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सुन्दर और सारगर्भित ....

    उत्तर देंहटाएं
  16. चेहरों से झांकते नहीं जज़्बात आजकल
    रखते हैं लोग जिल्द में दिल की किताब को.

    Awesome !!

    .

    उत्तर देंहटाएं

कुछ तो कहिये कि लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गज़लसरा न हुआ.
---ग़ालिब

अच्छी-बुरी जो भी हो...प्रतिक्रिया अवश्य दें